बुधवार, अप्रैल 17, 2024
spot_imgspot_imgspot_img
होमKanpurहाईकोर्ट इलाहाबाद से केस्को बाबूओं ने दिया झूठा शपथ-पत्र

हाईकोर्ट इलाहाबाद से केस्को बाबूओं ने दिया झूठा शपथ-पत्र

न्यूज़ समय तक कानपुर बिग न्यूज अपडेट*भर्ती घोटाला केस्को *मुख्यमंत्री से लेकर हाईकोर्ट इलाहाबाद से केस्को बाबूओं ने दिया झूठा शपथ-पत्र**केस्को अधिकारियों से मुख्यमंत्री पोर्टल पर अपलोड करा दिया फर्जी मुकदमा नंबर*1988 में इंटरमीडिएट, 1991 में बीएसी फिर 1995 में हो गए इंटरमीडिएट 😃पोल खुली तो भर्ती के सारे दस्तावेज गायब कर दिए केस्को अधिकारी बोले गंगा में बह गए केस्को एमडी सैमुअल पॉल एन, चीफ इंजीनियर सुनील गुप्ता, अधिशासी अभियन्ता मदनलाल तक को दिया फर्जी मुकदमा नंबर मुलायम सिंह यादव सरकार भर्ती घोटाला उजागर होते ही केस्को एमडी सैमुअल पॉल एन सहित कई केस्को बाबूओं की साँसें फूल गई जिन केस्को बाबूओं को केस्को अभी तक वेतन का भुगतान करता रहा वो ही केस्को को चूना लगाकर नौकरी हथिया लिए मामला केस्को बाबूओं की फर्जी शैक्षिक योग्यता और हाईकोर्ट इलाहाबाद में दाखिल फर्जी हलफनामे से जुडा है जिसमें केस्को बाबू विजय त्रिपाठी सहित कई केस्को बाबूओं ने मा0 न्यायालय से अपनी शैक्षिक योग्यता छुपाकर बाबू के पद का अतिक्रमण कर लिया है क्या ऐसा हो सकता है कि कोई 1988 में इंटरमीडिएट हो और 1991 में नौकरी के बाद फिर 1995 में इंटरमीडिएट हो जाए मामले में संविदा कर्मचारी संगठन केस्को कानपुर के महामंत्री दिनेश सिंह भोले ने केस्को से शिकायत की तो केस्को अधिकारियों ने लिखित कहा कि भर्ती के दस्तावेज गंगा में बह गए वही केस्को अधिकारियों ने मुख्यमंत्री पोर्टल पर फर्जी मुकदमा नंबर अपलोड कर मुख्यमंत्री को भी भ्रमित किया केस्को अधिकारियों द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार श्रम न्यायालय तृतीय कानपुर नगर मुकदमा नंबर *200/95* व हाईकोर्ट इलाहाबाद मुकदमा नंबर डब्लू पी *2648398* है जबकि ऐसा कोई मुकदमा नंबर ही नहीं है असली मुकदमा नंबर *208/95* श्रम न्यायालय तृतीय कानपुर नगर व डब्लू पी *26483/98* है जिसमें विजय त्रिपाठी पुत्र राममनोरथ त्रिपाठी का फर्जी हलफनामा दाखिल है

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments

ए .के. पाण्डेय (जनसेवक )प्रदेश महा सचिव भारतीय प्रधान संगठन उत्तर भारप्रदेश पर महंत गणेश दास ने भाजपा समर्थकों पर अखंड भारत के नागरिकों को तोड़ने का लगाया आरोप