रविवार, जून 23, 2024
spot_imgspot_imgspot_img
होमताजा खबरउत्तर प्रदेशमुख्य सचिव ने केजीएमयू लखनऊ और आईआईटी कानपुर के संयुक्त स्कूल ऑफ...

मुख्य सचिव ने केजीएमयू लखनऊ और आईआईटी कानपुर के संयुक्त स्कूल ऑफ इंटरनेशनल बायोडिज़ाइन सिनर्जाइज़िंग हेल्थ केयर इनोवेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप के द्वितीय फेलोज़ समूह कार्यक्रम का किया शुभारंभ

न्यूज ऑफ़ इंडिया (एजेन्सी)

न्यूज़ समय तक दिनांकः 06 जनवरी, 2024

लखनऊ। मुख्य सचिव ने किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के ब्राउन हॉल में आयोजित केजीएमयू लखनऊ और आईआईटी कानपुर के संयुक्त स्कूल ऑफ इंटरनेशनल बायोडिज़ाइन सिनर्जाइज़िंग हेल्थ केयर इनोवेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप (SIB SHInE) के द्वितीय फेलोज़ समूह कार्यक्रम (Fellows Cohort Program) का शुभारंभ किया।
अपने संबोधन में मुख्य सचिव ने नौ छात्र-छात्राओं के इनोवेशन को देखकर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कहा कि छात्र छात्राओं में पूर्ण आत्म विश्वास है, यह हमारा नया भारत है।
उन्होंने कहा कि भारत का स्वर्णिम अमृत काल चल रहा है। नये भारत का निर्माण हो रहा है। जब इन्जीनियरिंग कॉलेज और मेडिकल कॉलेज दोनों मिलकर एक साथ कार्य करते हैं, तो कितनी नयी चीजों का आविष्कार करते हैं। आज के दौर में आईआईटी से पासआउट होने वाले छात्र भारत में ही रहकर अपनी कंपनी खोलकर नौकरी देने में विश्वास रखते हैं, वह विदेशों को रुख नहीं करते हैं। आविष्कार ही एक सोच है। कोविड काल के दौरान भारत ने खुद अपनी वैक्सीन बनाकर पूरी दुनिया में वैक्सीन को सप्लाई किया।
उन्होंने कहा कि वर्ष 2014 से पहले 100 या 150 स्टार्ट अप हुआ करते थे, लेकिन आज स्थिति बदल गई है हमारा देश विश्व का तीसरा सबसे बड़ा स्टार्ट अप हब बन गया है। हमारे देश में लगभग 1.5 लाख स्टार्ट अप्स है और हमारे देश में 100 से ज्यादा यूनीकार्न है। यह हमारे देश का नया ईको सिस्टम है।
इस दौरान किग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी की कुलपति प्रोफेसर सोनिया नित्यानंद ने कहा कि छात्रों और शिक्षकों के बीच नवाचार को बढ़ावा देने के लिए केजीएमयू प्रतिबद्ध है। केजीएमयू के इनोवेशन ईको सिस्टम का महत्वपूर्ण हिस्सा मेड टेक रिसर्च है, जो मेक इन इण्डिया का समर्थन करता है।
उल्लेखनीय है कि स्कूल ऑफ इंटरनेशनल बायोडिज़ाइन सिनर्जाइज़िंग हेल्थ केयर इनोवेशन एंड एंटरप्रेन्योरशिप की शुरूआत सितम्बर, 2022 में हुई थी। इस स्कूल से केजीएमयू और आईआईटी कानपुर दोनों मिलकर नये टेक्नोलॉजी का प्रयोग कर रहे है।
इस अवसर पर केजीएमयू डीन एकेडमिक प्रो0 अमिता जैन, प्रो0 जे.राजकुमार, हेड मेड0 टेक आईआईटी कानपुर डा0 अभिषेक मेहता, प्रोग्राम ऑफिसर डिपार्टमेन्ट ऑफ बायोटेक्नालॉजी समेत छात्र छात्रायें आदि उपस्थित थीं।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments