गुरूवार, जून 13, 2024
spot_imgspot_imgspot_img
होमताजा खबरमाननीय मुख्यमंत्री जी एक नजर इधर भी

माननीय मुख्यमंत्री जी एक नजर इधर भी


सहारनपुर न्यूज़ समय तक

माननीय मुख्यमंत्री जी एक नजर इधर भी

सहारनपुर अल्पसंख्यक अधिकारी भरत लाल गॉड और उसका ड्राइवर एहतेशाम जितने भी लोन अल्पसंख्यक विभाग से बेरोजगारों को दिए जाते हैं उन आदमियों से 20 हजार रूपये भरत लाल गॉड और उसका ड्राइवर मिलकर उनसे रिश्वत लेते हैं तब जाकर उनका लोन पास किया जाता है ऐसे ही एक आदमी ने लोन के लिए अप्लाई किया जिसका नाम शाहवली है तो अल्पसंख्यक अधिकारी भरत लाल गॉड और उसके ड्राइवर ने पहले ही उससे 20 हज़ार की मांग रख दी जिसको वह दे नहीं पाया और उसको लोन देने से मना कर दिया कि अगर 20 हज़ार हैं तो लोन होगा वरना नहीं अपने घर चले जाओ शाहवली अपना रोजगार चलाने के लिए सरकार की योजनाओं से अल्पसंख्यक में लोन के लिए अपील की थी ताकि उत्तर प्रदेश सरकार के योजनाओं से लाभ उठा सके…!

उत्तर प्रदेश सरकार बेरोजगार युवाओं को आगे लाने के लिए बहुत अच्छी-अच्छी योजनाएं दे रही हैं मगर भ्रष्टाचार अधिकारी पहले अपनी जेब भरते हैं बाद में उन लोगों तक योजनाएं पहुंचती हैं जो रिश्वत देता है उसको पहुंचती है जो रिश्वत नहीं देता उसको योजनाओं को लाभ नहीं मिलता अल्पसंख्यक अधिकारी भरत लाल गॉड ने मदरसे वालों से मिलकर करोड़ों रुपए की स्कॉलरशिप भी डकार रहे हैं माननीय मुख्यमंत्री जी का इसी विषय को लेकर मदरसों का सर्वे किया जा रहा है ताकि वहां पर पढ़ने वाले बच्चों को लाभ मिल सके क्योंकि जितने बच्चे रजिस्टर्ड होंगे लिखित रूप में उन लोगों को ही सरकार का लाभ मिलेगा और भ्रष्टाचार कम होगा मदरसों में कई हजार बच्चे फर्जी दिखाकर मदरसे के मौलवी अल्पसंख्यक अधिकारी से मिलकर करोड़ों रुपए डकार रहे हैं कुरान शरीफ में कहां लिखा है मदरसों के मौलवी कि सरकार का पैसा गलत तरीके से हजम किया जाए
बताएं मौलवी मदरसों की आड़ में अपनी बिल्डिंग बना रहे हैं और निजी संपत्ति खरीद रहे हैं जो विदेशों से फंडिंग आती है मौलवी लोग अपने ऐशो आराम के लिए जैसे चाहे वैसे खर्च करते हैं मौलाना असद मदनी ने कहा है मदरसों के सर्वे कराएं और बच्चों की किताबें और उनके खाने-पीने का सही से ध्यान रखें जो भी अधिकारी आए उसका समर्थन करें और अपने रजिस्टर वगैरह चेक कराएं आजकल दुआ मौलवी लोगों की यूं ही कबूल नहीं होती कि वह हराम हलाल नहीं देखते बस आ जाए माल मुर्गा मुसल्लम चाहे वह हराम या हलाल हो पहले हजरत लोग का कोई खाना लाता था मस्जिद में मौलवी के लिए तो पूछते थे कि भाई क्या काम करते हैं तब जाकर उसका खाना लेकर खाते थे हलाल हराम का ध्यान रखते थे इसीलिए उन लोगों की दुआ कबूल होती थी मान्य मुख्यमंत्री जी एहतेशाम और भरत लाल गॉड अल्पसंख्यक अधिकारी की संपत्तियों की जांच होनी चाहिए..!

रिपोर्ट एम शाहवली

        

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments