मंगलवार, मार्च 5, 2024
spot_imgspot_imgspot_img
होमउत्तर प्रदेशफतेहपुरपी0ए0सी0 का गौरवशाली इतिहास स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा : मुख्यमंत्री

पी0ए0सी0 का गौरवशाली इतिहास स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा : मुख्यमंत्री

न्यूज ऑफ इंडिया (एजेन्सी)

लखनऊ : 17 दिसम्बर, 2023

 मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने कहा कि किसी भी बल की छवि उसके जवानों के शौर्य एवं पराक्रम से निर्मित होती है। उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 का गौरवशाली इतिहास इस दृष्टि से स्वर्ण अक्षरों में लिखा जाएगा। दिनांक 17 दिसम्बर 1947 को मिलिट्री पुलिस का नाम बदलकर पी0ए0सी0 किया गया, जबकि ‘दि यूनाइटेड प्रॉविन्सेज़ प्रॉविन्शियल आर्म्ड कॉन्सटैबुलरी एक्ट-1948’ के तहत इसका विधिवत गठन हुआ। वर्तमान में उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 के लगभग 40 हजार कार्मिक अपने कर्तव्यों का पूरी निष्ठा और ईमानदारी से निर्वहन करते हुए राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति बेहतर बनाने में अपना योगदान दे रहे हैं।

मुख्यमंत्री आज यहां 35वीं वाहिनी पी0ए0सी0 परिसर में पी0ए0सी0 संस्थापना दिवस-2023 के आयोजन के अवसर पर अपने विचार व्यक्त कर रहे थे। उन्होंने पी0ए0सी0 बल के समस्त अधिकारियों एवं जवानों को संस्थापना दिवस की हार्दिक बधाई देते हुए कहा कि वर्ष 2001 में जब देश की संसद पर हमला हुआ था, उस समय उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 के जवानों के पराक्रम के कारण हमले को निष्फल करने में सफलता प्राप्त हुई थी। बहादुर जवानों ने सभी हमलावरों को अपने पराक्रम से मार गिराया और उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया। देश की आस्था के प्रतीक श्री राम जन्मभूमि पर जब आतंकी हमला हुआ था, तब भी उस हमले को निष्फल करने का कार्य उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 ने किया था।
मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 द्वारा महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों एवं अति विशिष्ट महानुभावों की सुरक्षा ड्यूटी, एस0टी0एफ0 में कमाण्डो ड्यूटी, आतंकवाद निरोधक दस्ता (ए0टी0एस0) में कमाण्डो ड्यूटी, यातायात पुलिस ड्यूटी, यू0पी0 112 पी0आर0वी0 में पायलेट ड्राइवर ड्यूटी, प्रतिसार निरीक्षक ड्यूटी, रिक्रूट प्रशिक्षण केन्द्र प्रभारी ड्यूटी, एस0एस0एफ0, एस0डी0आर0एफ0 ड्यूटी तथा अन्य प्रदेशों में चुनाव व कानून व्यवस्था में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई जाती है। प्रदेश की सुरक्षा और कानून व्यवस्था से जुड़े उत्तर प्रदेश पुलिस बल के अनेक महत्वपूर्ण संस्थान हैं, जहां पर पी0ए0सी0 के जवान ईमानदारी के साथ अपने कर्तव्यों का निर्वहन कर रहे हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 की 46 ऐसी कम्पनियां, जिन्हें समाप्त कर दिया गया था, उन सभी को वर्तमान प्रदेश सरकार द्वारा पुनर्जीवित किया गया है। फलस्वरूप उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 की कुल 33 बटालियनों में 273 कम्पनियां पूर्णतः क्रियाशील हो गई हैं। वर्तमान सरकार द्वारा पी0ए0सी0 में 41,893 आरक्षियों एवं 698 प्लाटून कमाण्डरों की भर्ती की गई है। पी0ए0सी0 में पदोन्नति के लिए और अधिक अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से सशस्त्र पुलिस में 184 निरीक्षकों एवं 3,772 उपनिरीक्षकों के पदों में वृद्धि की गई है। विभागीय प्रोन्नति के अन्तर्गत 257 उपनिरीक्षक, 3,558 मुख्य आरक्षी तथा 12,774 आरक्षियों को प्रोन्नति प्रदान की गई। आरक्षी के पद पर सीधी भर्ती हेतु 10,584 आरक्षियों की भर्ती प्रक्रिया भर्ती बोर्ड में विचाराधीन है।
मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पी0ए0सी0 बल को अत्याधुनिक अस्त्र-शस्त्रों एस0एल0आर0 एवं इन्सास राइफल तथा दंगा निरोधी उपकरणों, यथा-मल्टीशेल लॉन्चर, एण्टीराइट गन व टीयर गैस गन से सुसज्जित किया गया है। दंगा निरोधक तथा बाढ़ राहत कम्पनियों के लिए आवश्यक उपकरणों के क्रय की व्यवस्था की गई है। पी0ए0सी0 जवानों को दैनिक उपभोग का गुणवत्तायुक्त सामान और वस्तुएं बाजार मूल्य से कम दर पर उपलब्ध कराने के उद्देश्य से प्रदेश में 13 मास्टर कैन्टीन एवं पी0ए0सी0 वाहिनी/जनपदीय पुलिस लाइन्स में कुल 102 सब्सिडियरी कैन्टीन संचालित हैं। पुलिस कल्याण योजना के अन्तर्गत पुलिस/पी0ए0सी0 के जवानों के बच्चों को न्यूनतम शिक्षण शुल्क पर उत्कृष्ट शिक्षा प्रदान करने के उद्देश्य से प्रदेश में 31 पुलिस मॉडर्न स्कूल स्थापित हैं। इस वर्ष सम्पन्न हुई 10वीं एवं 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में अनेक छात्र-छात्राओं ने 90 प्रतिशत या अधिक अंक प्राप्त किए हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि पुलिस मॉडर्न स्कूलों के अवसंरचनात्मक विकास, नए पुलिस मॉडर्न स्कूलों के निर्माण एवं फर्नीचर क्रय किए जाने हेतु प्रदेश सरकार ने आवश्यक धनराशि स्वीकृत की है। पी0ए0सी0 जवानों हेतु आवासीय सुविधा सुनिश्चित करने के लिए पी0ए0सी0 की 33 में से 31 वाहिनियों में प्रत्येक में 200 जवानों के लिए हाई राइज बिल्डिंग के रूप में बेहतर आवासीय व्यवस्था हेतु आवश्यक धनराशि स्वीकृत करने के साथ-साथ निर्माण कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है।
मुख्यमंत्री ने कहा पी0ए0सी0 बल में महिलाओं को भी स्थान प्राप्त हो, इस दिशा में तीन महिला बटालियनों की स्थापना का कार्य जनपद गोरखपुर (वीरांगना झलकारी बाई महिला बटालियन), लखनऊ (वीरांगना ऊदा देवी महिला बटालियन) एवं बदायूं (वीरांगना अवंतीबाई महिला बटालियन) में प्रारम्भ किया गया है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में पहली बार कुशल खिलाड़ियों को पुलिस बल का हिस्सा बनाया गया है। प्रदेश पुलिस को बढ़ावा देने के लिए 02 प्रतिशत पद कुशल खिलाड़ियों की भर्ती हेतु आरक्षित किए गए हैं। इस क्रम में अब तक 500 से अधिक कुशल खिलाड़ियों की भर्ती की जा चुकी है।
मुख्यमंत्री ने कहा प्रदेश सरकार द्वारा राज्य आपदा मोचन बल (एस0डी0आर0एफ0) की एक बटालियन का सृजन किया गया है, जिसमें 06 कम्पनियां एवं 18 टीमें शामिल हैं। इनमें से तीन कम्पनियां अर्थात् 09 टीमों को क्रियाशील भी कर दिया गया है। शेष तीन कम्पनियों को भी अतिशीघ्र क्रियाशील करने का प्रयास तेजी के साथ किया जा रहा है। तीन अतिरिक्त कम्पनियों के प्रयोगार्थ मोटरबोट्स एवं अन्य विशेषीकृत उपकरणों के क्रय हेतु राज्य सरकार द्वारा आवश्यक धनराशि स्वीकृत कर दी गई है।
बाढ़ एवं अन्य आपदाओं के दौरान भी कई मौकों पर पी0ए0सी0 जवानों ने जान-माल की भारी क्षति होने से बचाया है। इस वर्ष पी0ए0सी0 की बाढ़ राहत टीमों एवं एस0डी0आर0एफ0 ने अथक परिश्रम एवं व्यावसायिक दक्षता से 175 बच्चों समेत कुल 1,008 व्यक्तियों एवं अनेक पशुओं के अमूल्य जीवन की रक्षा की तथा 20 हजार से अधिक बाढ़ पीड़ितों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाया।
मुख्यमंत्री ने पी0ए0सी0 जवानों को आश्वस्त करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार ने सदैव पी0ए0सी0 जवानों के हितों को प्राथमिकता पर रखा है। प्रदेश सरकार पी0ए0सी0 जवानों की व्यावसायिक दक्षता और कार्यों की गुणवत्ता को सुदृढ़ करने, उनके कल्याण एवं मनोबल को ऊंचा रखने के लिए पूर्ण प्रतिबद्धता एवं संवेदनशीलता के साथ विभिन्न कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने का कार्य कर रही है। पी0ए0सी0 जवानों की पदोन्नति में किसी भी प्रकार की विसंगति हो तो उसे निश्चित समय सीमा में दूर करने के लिए उनके द्वारा गृह विभाग को निर्देशित किया गया है। उन्होंने कहा कि इस उत्कृष्ट बल के मनोबल को बनाए रखने और जवानों को अधिक से अधिक प्रोत्साहन और पदोन्नति देने के कार्यक्रम को आगे बढ़ाया जाना चाहिए। इस सम्बन्ध में शीघ्र कार्यक्रम घोषित किया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि जब देश अपनी आजादी का शताब्दी वर्ष पूर्ण करेगा, तो संयोग से उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 की स्थापना का 100वां वर्ष पूर्ण होगा। शताब्दी वर्ष के एक बड़े लक्ष्य को लेकर उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 को आगे बढ़ना है तथा शौर्य, पराक्रम और व्यावसायिक दक्षता के लिए स्वयं को तैयार करना है।
कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए पुलिस महानिदेशक विजय कुमार ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा प्रदेश में कानून व्यवस्था को शीर्ष प्राथमिकता देने के अनुक्रम में उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 की जनशक्ति, दक्षता, आधुनिकीकरण एवं कल्याण में उत्तरोत्तर वृद्धि हेतु विशेष ध्यान दिया गया है। इसके परिणामस्वरूप न केवल बड़े पैमाने पर पी0ए0सी0 जनशक्ति की वृद्धि हुई है, अपितु 46 मृतप्राय पी0ए0सी0 कम्पनियों को पुनर्जीवित भी किया जा चुका है। मुख्यमंत्री के मार्गदर्शन में राज्य आपदा मोचन बल की तीन कम्पनियों को पूरी तरह सुसज्जित कर क्रियाशील कर दिया गया है तथा तीन अन्य कम्पनियों को क्रियाशील करने की कार्यवाही चल रही है।
मुख्यमंत्री के कार्यक्रम में पहुंचने पर उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 बल के जवानों द्वारा ‘गार्ड ऑफ ऑनर’ दिया गया। कार्यक्रम के दौरान उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 बल के जवानों द्वारा मलखम्भ, जिमनास्टिक, वन मिनट वैपन्स ड्रिल एवं बैण्ड समूह आदि का प्रदर्शन किया गया। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने विभिन्न पी0ए0सी0 वाहिनियों द्वारा आयोजित प्रदर्शनी का उद्घाटन एवं अवलोकन किया।
मुख्यमंत्री ने विभिन्न प्रतियोगिताओं के विजेताओं को पुरस्कृत किया। उन्होंने उत्तम वाहिनी के लिए छठवीं वाहिनी पी0ए0सी0-मेरठ, अति उत्तम वाहिनी के लिए 34वीं वाहिनी पी0ए0सी0-वाराणसी, सर्वोत्तम वाहिनी के लिए 32वीं वाहिनी पी0ए0सी0, अति उत्तम प्लाटून ड्रिल के लिए 38वीं वाहिनी पी0ए0सी0-अलीगढ़, सर्वोत्तम प्लाटून ड्रिल के लिए 36वीं वाहिनी पी0ए0सी0-वाराणसी, अति उत्तम डिमॉन्स्ट्रेशन के लिए 41वीं वाहिनी पी0ए0सी0-गाजियाबाद, सर्वोत्तम डिमॉन्स्ट्रेशन के लिए 36वीं वाहिनी पी0ए0सी0-वाराणसी, श्रेष्ठ बाढ़ राहत दल के लिए 36वीं वाहिनी पी0ए0सी0-वाराणसी को ट्रॉफी एवं पुरस्कार की धनराशि प्रदान की।
मुख्यमंत्री जी ने 11वीं अखिल भारतीय पुलिस तीरंदाजी प्रतियोगिता-2022 में एक स्वर्ण, तीन रजत प्राप्त करने वाले प्रयागराज के आरक्षी जयदीप कुशवाहा को सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का कप तथा पुरस्कार की धनराशि प्रदान की। मुख्यमंत्री ने विभिन्न परीक्षाओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले पुलिस मॉडर्न स्कूलों के मेधावी विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया।
इस अवसर पर अपर पुलिस महानिदेशक पी0ए0सी0 डॉ0 के0 एस0 प्रताप कुमार ने धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री जी के आगमन से पी0ए0सी0 के जवानों में उत्साह का संचार हुआ है।
इस अवसर पर प्रमुख सचिव मुख्यमंत्री, गृह एवं सूचना श्री संजय प्रसाद एवं उत्तर प्रदेश पी0ए0सी0 बल के अधिकारी एवं जवान उपस्थित थे।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments

ए .के. पाण्डेय (जनसेवक )प्रदेश महा सचिव भारतीय प्रधान संगठन उत्तर भारप्रदेश पर महंत गणेश दास ने भाजपा समर्थकों पर अखंड भारत के नागरिकों को तोड़ने का लगाया आरोप