गुरूवार, जून 13, 2024
spot_imgspot_imgspot_img
होमKanpurदूसरे को फंसाने के लिये खुद पर कराया हमला

दूसरे को फंसाने के लिये खुद पर कराया हमला

न्यूज़ समय तक कानपुर

– थाना बाबूपुरवा

दूसरे को फंसाने के लिये खुद पर कराया हमला

-लेनदेन के विवाद में व्यापारिक पार्टनर को फंसाने का आरोप
-पुलिस व फॉरेंसिक टीम की जांच में हुआ घटना का खुलासा

कानपुर: बाबूपुरवा के बगाही में शनिवार रात फायरिंग और चाकू से हमला कर भाग जाने के मामले में नया मोड़ सामने आया है। पूरे मामले में पीड़ित ही आरोपित निकला। पैसों के लेनदेन के विवाद में अपने व्यापारिक पार्टनर को फंसाने के लिए दो मित्रों के साथ मिलकर स्वयं पर वार किया था। पुलिस और फॉरेंसिक टीम ने घटना की विस्तार से जांच की तो घटना का खुलासा हुआ।

आवास विकास हंसपुरम निवासी विपिन नागर ऑटो पार्ट्स का व्यापार करता है। बगाही के बाबाकुटी में उसकी दुकान है। उसका व्यापारिक पार्टनर यशोदानगर निवासी धर्मपाल से दो लाख रुपये को लेकर विवाद चल रहा था। पुलिस के मुताबिक, विपिन ने रुपये न देने के लिए अपने साथी विरेंद्र सोनकर और अमर सिंह उर्फ मामा के साथ मिल कर धर्मपाल को फंसाने का प्लान बनाया।

जांच में निकला सच
विपिन का साथी अमर सिंह उर्फ मामा धर्ममपाल को आयुर्वेदिक दवा दिलवाने के लिए पंद्रह दिन से फोन कर रहा था। धर्मपाल समय न होने की बात कह टाल रहा था। शनिवार को धर्मपाल मंजू श्री टाकीज के पास दवा लेने पहुंचा। पीछे से विपिन, अपने साथी विरेंद्र सोनकर, और विजय कुमार के साथ पहुंच गया। इसके बाद सभी ने मिलकर उसे शराब पिलाई। इसके बाद बाबाकुटी चौराहे के कमरे में लाकर विपिन ने धर्मपाल और साथियों के साथ मिलकर शराब पी। थोड़ी देर बाद विपिन अंदर गया और खुद को लहूलुहान कर लाया। ये देख धर्मपाल डर गया। इसके बाद तमंचे से फायरिंग कर दी। तो धर्मपाल भाग निकला।

विपिन ने बताया कि उसके ऊपर धर्मपाल और उसके साथी संजय भास्कर ने हमला किया है। जब संजय भास्कर की लोकेशन तलाशी गई तो प्रयागराज मिली। इसके बाद फॉरेंसिक टीम को कमरे के अंदर तमंचा और दो जिंदा कारतूस मिले तो पुलिस को कहानी मनगढ़ंत लगी। इसके बाद साथी विजय चौहान से पूछताछ शुरु की तो वह टूट गया। विपिन नागर ने स्वयं पर हमला किया था। विपिन और उसके साथियों पर आर्म्स एक्ट, षड़यंत्र रचना, आदि धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। विवेचना के क्रम में विपिन कुमार नागर के विरूद्ध धारा 193,195, 203,211 व 120बी भादवि व 3/25 आर्म्स एक्ट , 4/25 आर्म्स एक्ट में तरमीम कर हिरासत में लेकर आवश्यक विधिक कार्यवाही की जा रही है।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments