शुक्रवार, जून 14, 2024
spot_imgspot_imgspot_img
होमउत्तर प्रदेशफतेहपुरजिला पूर्ति कार्यालय से लेकर कोटेदारों तक भ्रष्टाचार व्याप्त है भरपूर मुख्यमंत्री...

जिला पूर्ति कार्यालय से लेकर कोटेदारों तक भ्रष्टाचार व्याप्त है भरपूर मुख्यमंत्री का सपना हो रहा है चकनाचूर

न्यूज़ समय तक जिला पूर्ति कार्यालय से लेकर कोटेदारों तक भ्रष्टाचार व्याप्त है भरपूर मुख्यमंत्री का सपना हो रहा है चकनाचूर

👉 *भ्रष्ट कोटेदारों और सप्लाई इंस्पेक्टरों के हाथों की कठपुतली बन गया है जिला पूर्ति अधिकारी*________________________________________👉 *जिनका गलत है इरादा उन्होंने ओढ़ रखा है भ्रष्टाचार का लबादा*👉 *हसवा विकासखंड के औराई गांव के कोटेदार द्वारा 3 से 5 किलों राशन की जाती थी कटौती नहीं हुई अभी तक कोई कार्यवाही!?*_________________________________________📌 *स्पर्श भारत श्रीराम अग्निहोत्री* ___________________________________________✍️ *फतेहपुर*। सल्तनत के बादशाह योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना का जो सपना देखा था वह सपना देश के प्रधानमंत्री के निर्देश पर पूरा तो हो रहा है किंतु कोटेदारों द्वारा संचालित होने के बाद भ्रष्टाचार का एक महाजिन्न मंडराने लगा है। इस बात की चर्चा है कोटेदारों और क्षेत्रीय सप्लाई इंस्पेक्टरों दो भ्रष्टाचार्यों की कठपुतली के गुलाम बनकर रह गए हैं। जिले में फैले कोटेदार भ्रष्टाचार की चर्चा जनपद से लेकर प्रदेश के गलियारों में जंगल की आग की तरह फैली हुई है। चर्चा इस बात की भी है कि कोटेदार से लेकर जिला पूर्ति विभाग ने भ्रष्टाचार का लबादा ओढ़ रखा है और इन्हीं दोनों भ्रष्टाचार के महारथियों का गुलाम जिला पूर्ति अधिकारी बन गया है। हैरत की बात तो यह है कि जिन गरीबों के नाम से इन कोटेदारों को दुकान का लाइसेंस दिया गया उक्त गरीबों के पेट में डाका डालने का काम किया जाता है सरकार की मनसा को दरकिनार रखते हुए भ्रष्टाचार के महाजिन्न ने कोटेदारो ने अपने कब्जे में दबोच रखा है। जिला पूर्ति विभाग में इस बात की जिला प्रशासन से लेकर शासन की गलियारों में गूंज रही । बहरहाल कुछ भी हो यदि कोटेदारों की शासन स्तर से उच्च स्तरीय जांच करा ली जाए तो भ्रष्टाचार का महाजिन्न खुलकर सामने आ जाएगा। जहां आपको बताते चलें कि जनपद फतेहपुर के विकास खंड हसवां क्षेत्र के औराई गांव में कोटेदार सीमा देवी के द्वारा पिछले महीने का राशन वितरण किया जा रहा था जिसमें सरकार ने सभी कोटेदारों के यहां इस बार से ई पास मशीन के साथ इलेक्ट्रॉनिक कांटा भी जोड़कर दिया था जिस पर कोटेदारों के द्वारा उस कांटे में भी राशन काटने का जुगाड निकाल लिया गया। अर्थात् वह कहावत चरितार्थ होती हुई नजर आ रही है कि,साहब यह तो भारत है,यहां सब कुछ जुगाड से चलता है।तो वही अब कोटेदारों के द्वारा कार्य किया जा रहा है जिसमे सरकार के द्वारा कटौती रोके जाने के लिए जो इलेक्ट्रॉनिक कांटा दिया गया उसकी जगह पुराना कांटा का प्रयोग कर सरकार की छवि को धूमिल करने का प्रयास किया जा रहा।जहां उक्त मामले की खबर कई अखबारों की पन्नों की सुर्खियां भी बना था। जिसमें विभागीय जांच के नाम पर क्षेत्रीय सप्लाई इंस्पेक्टर अभी तक कोई संतुष्टि रिपोर्ट विभाग को नहीं दे पाए।जांच रिपोर्ट न मिलने से साफ अंदाजा लगाया जा सकता है कि क्षेत्रीय इंस्पेक्टर के द्वारा कोटेदार से मोटी रकम लेकर मामले में खानापूर्ति करने का प्रयास किया जा रहा है।इतना ही नहीं क्षेत्रीय इंस्पेक्टर सुशील कुमार के द्वारा जब पत्रकारों को खुला ऑफर दिया जा सकता है तो साफ जाहिर है कि कोटेदार के द्वारा विभाग में लंबी मोटी रकम देकर साहब की जेब गरम कर दी गई है,जिस कारण अभी जांच रिपोर्ट लंबित पड़ी हुई है।जबकि कोटेदार के लड़कों का पुराने इलेक्ट्रॉनिक कांटे से राशन तौलने का वीडियो भी कैमरे में कैद है। इतना ही नहीं लड़कों द्वारा कहा गया की सांसद साध्वी निरंजन ज्योति के संरक्षण में चल रहा है और उनसे बात करायें क्या सब सिस्टम से कम होता!?

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments