मंगलवार, अप्रैल 23, 2024
spot_imgspot_imgspot_img
होमबेतियाकैसरे हिन्द की जमीन का मिटता अस्तित्व।

कैसरे हिन्द की जमीन का मिटता अस्तित्व।

न्यूज समय तक

कैसरे हिन्द की जमीन का मिटता अस्तित्व।

नेताजी सुभाष चंद्र के इतिहास को खत्म करने की साज़िश।

बेतिया नगर निगम अंतर्गत कैसरे हिन्द की जमीन पर पक्के निर्माण। अतिक्रमण ध्वस्त नहीं कर पाई जिला प्रशासन ।ज़िला प्रशासन के इस रवैये से आमजनों में रोष ।

बेतिया, पश्चिमी चंपारण, बिहार। पश्चिम चम्पारण के बेतिया नगर निगम के एनएच 28 बी पर स्थित कैसरे हिन्द की जमीन पर अस्थायी अतिक्रमण अब प्रशासनिक उदासीनता के कारण स्थायी निर्माण में तब्दील हो गया है। कैसरे हिन्द जमीन का अस्तित्व मिटाने को लेकर अतिक्रमणकारी और भू-माफियाओं ने जो खेल खेला उससे नेताजी सुभाष चंद्र बोस की इतिहास भी आधुनिक समय में खत्म करने का प्रयास किया गया है। कैसरे हिन्द जमीन के पूरब भगवती नगर, पश्चिम रेलवे क्वार्टर, उत्तर रेलवे लाइन और दक्षिण एनएच 28 बी है। ऐसे जगह के बीच में होने के बाद भी निरंतर अतिक्रमण होता रहा और नतीज़ा, आज उसका पककीकरण अतिक्रमण के रूप में हो चुका है। पक्का निर्माण कराकर अतिक्रमणकारी विवाह भवन, आवासीय होटल, हार्डवेयर दुकान, नर्सिंग होम, कार सर्विसिंग, रेस्टुरेंट से लेकर छोटे मोटे सभी तरह के व्यवसायिक उपयोग कर सालाना लाखों की कमाई अतिक्रमणकारी व कब्जाधारी करते हैं जिससे यह कहावत भी चरितार्थ होती है कि माल महाराज के मिर्जा खेले होरी।हैरत की बात यह है कि अतिक्रमणकारी/कब्जाधारी उक्त कैसरे हिन्द की जमीन का खाता, खेसरा की हेराफेरी कर जमीन का निबंधन भी करा कर रखा है जबकि इस जमीन को कब्जा करना और निबंधन कराना दोनों ही गलत है जो कि प्रशासनिक मिलीभगत से अंजाम दिया जाता रहा है और नतीजा यह है कि आज उक्त भूखण्ड अतिक्रमण ही नहीं बल्कि व्यवसायिक रूप लेकर काली कमाई का जरिया बना हुआ है। सूत्रों के मुताबिक इस जमीन पर एक पार्टी का कार्यालय भी बना कर रखा गया है ताकि प्रशासन से इसे बचाया जा सकें।विदित हो कि वर्ष 2013 में तत्कालीन जिलाधिकारी अभय कुमार के निर्देश पर कैसरे हिन्द गैरमजरूआ वृतदार और गैरमजरूआ मालिक जमीन पर सब बस स्टैंड के लिए प्रस्तावित किया गया था जिसको लेकर तत्कालीन नगर परिषद के अमीन मो. मोजम्मील व अंचल अमीन लालबाबू कुमार ने नापी की थी और अपना रिपोर्ट अंचलाधिकारी को सौंपी थी। प्रस्तावित सब बस स्टैंड गैरमजरूआ जमीन जिसका खाता संख्या 1082,1083 व 1084 है, पर बनाया जाना था। उस समय 23 अतिक्रमणकारियों को नोटिस भी निर्गत किया गया था परन्तु पक्के अतिक्रमण ने कागजों के नोटिस को अपने चांदी के सिक्कों और रसूख से दबाकर रख दिया। आज कैसरे हिन्द की जमीन मुट्ठी भर लोगों के लिए काली कमाई का ज़रिया बन गया है। पुराने जानकार बताते हैं कि जब देश पराधीनता की गुलामी में जकड़ा हुआ था तब नेताजी सुभाष चंद्र बोस ने आजाद हिंद फौज का गठन किया था। जिसको लेकर देश के कई शहरों में फौज के लिए शिविर बनाने के लिए जमीन कैसरे हिन्द के नाम पर लिया था। जहाँ से आजादी की लड़ाई के लिए सैनिकों को तैयार किया जाने लगा। वहीं ऐतिहासिक कैसरे हिन्द की जमीन अब चंद माफियाओं के चंगूल में फंस कर अपनी ऐतिहासिक पहचान खत्म करने के कगार पर पहुंच चुकी है। कब्जा करने के साथ यह सिलसिला रूका नहीं बल्कि जमीन बेचना तक शुरू हो गया। पूर्व में कब्जा किसी और का रहा और वर्तमान में जमीन मालिक कोई और बन बैठा है। हालांकि पूरे प्रकरण में राजनीतिक दलों की आड़ में तथाकथित नेता भी संलिप्त रहते आए हैं। देश भर में कैसरे हिन्द की जमीन केन्द्र और राज्य सरकार के अधीन स्वतंत्रता के समय कर दिया गया था। जिसको लेकर बिहार के मुख्य सचिव स्तर से भी सभी जमीनों को अतिक्रमण मुक्त कर सरकार के अधिपत्य में करने का निर्देश भी जारी किया जा चुका है। बावजूद बेतिया में 2013 में शुरू कैसरे हिन्द की जमीन को अतिक्रमणमुक्त करने की प्रक्रिया तत्कालीन जिलाधिकारी अभय कुमार के स्थानांतरण के बाद से ही ठंडे बस्ते में भू-माफियाओं के मिलीभगत से डाल दिया गया। ऐसे में ठंडा बस्ता कब गर्म होगा और कैसरे हिन्द की जमीन को संरक्षित कर जीर्णोद्धार की जाएगी, यह प्रश्नवाचक बना हुआ है। हालांकि उक्त अतिक्रमित ज़मीन को लेकर ज़िला प्रशासन के प्रति आमजनों में काफी रोष है । सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अगर ज़िला प्रशासन द्वारा नेता जी सुभाष चंद्र बोस के इस ऐतिहासिक धरोहर को अतिक्रमणमुक्त नहीं कराया गया तो लोग सड़कों पर उतरकर चरणबद्ध आंदोलन करने को विवश होंगे ।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments

ए .के. पाण्डेय (जनसेवक )प्रदेश महा सचिव भारतीय प्रधान संगठन उत्तर भारप्रदेश पर महंत गणेश दास ने भाजपा समर्थकों पर अखंड भारत के नागरिकों को तोड़ने का लगाया आरोप