मंगलवार, अक्टूबर 3, 2023
spot_imgspot_imgspot_img
होमउत्तर प्रदेशफतेहपुरअपनी आदतों में छोटे-छोटे बदलाव लाकर स्वच्छ परिवेश का निर्माण किया जा...

अपनी आदतों में छोटे-छोटे बदलाव लाकर स्वच्छ परिवेश का निर्माण किया जा सकता :कृषि उत्पादन आयुक्त

न्यूज़ समय तक

अपनी आदतों में छोटे-छोटे बदलाव लाकर स्वच्छ परिवेश का निर्माण किया जा सकता :कृषि उत्पादन आयुक्त

न्यूज ऑफ इंडिया (एजेन्सी)लखनऊ: दिनांक: 18 सितम्बर, 2023उत्तर प्रदेश के कृषि उत्पादन आयुक्त एवं अपर मुख्य सचिव, पंचायतीराज विभाग, मनोज कुमार सिंह ने आज यहां अलीगंज स्थित पंचायतीराज निदेशालय में स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के अन्तर्गत राज्य स्तर पर स्वच्छता ही सेवा-2023 का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि स्वच्छता का कार्य केवल कुछ दिनों का अभियान न होकर निरन्तर चलने वाला अभियान होना चाहिए। हम जो भी कार्य अभियान के तौर पर करते हैं उसमें अच्छा प्रदर्शन करते हैं। इसीलिए सफाई व स्वच्छता का कार्य भी अभियान की तरह प्रतिदिन चलना चाहिए।कृषि उत्पादन आयुक्त ने कहा कि तेजी से बढ़ती जनसंख्या के कारण प्लास्टिक/थर्माकोल आदि का अत्यधिक प्रयोग हो रहा है, जिससे अपशिष्ट एवं कूड़ा-कचरा लगातार बढ़ रहा है जो सिर्फ पर्यावरण ही नहीं हमारे स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक है। इसलिए व्यक्तिगत स्वच्छता के साथ ही बढ़ते अपशिष्ट एवं कूड़े का निस्तारण करना भी महत्वपूर्ण है। उन्होंने कहा कि गन्दगी न करना हमारी आदत में शामिल होना चाहिए। अपनी आदतों में छोटे-छोटे परिवर्तन करके स्वच्छ परिवेश का निर्माण किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के द्वितीय चरण में ओ0डी0एफ0 प्लस बनाने हेतु सृजित हो रही परिसम्पत्तियों के संरक्षण रख-रखाव एवं गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देना आवश्यक है। स्वच्छता ही सेवा-2023 की थीम ‘‘कचरा मुक्त भारत’’ है। जिसका उद्देश्य दृष्यमान साफ-सफाई और सफाई-मित्रों के कल्याण व समृद्धि से सम्बंधित है। स्वच्छता एक दिन का कार्यक्रम नहीं है यह सतत चलने वाली प्रक्रिया है। विगत वर्षों की तरह स्वच्छता गतिविधियों की भावना स्वैच्छिकता/श्रमदान से है। इस अभियान में ग्रामीणों को प्रेरित कर श्रमदान के माध्यम से ग्रामों की सफाई कराये जाने पर बल दिया गया जिससे ग्रामीणों में स्वच्छता की भावना विकसित हो सके तथा स्वच्छता स्थाई रूप से कायम रहे।कृषि उत्पादन आयुक्त ने कहा कि इस अभियान को सफल बनाने में ग्राम्य विकास, वन एवं पर्यावरण, शिक्षा, राजस्व, महिला एवं बाल विकास, जल जीवन मिशन, पर्यटन, स्वास्थ्य, कृषि, संस्कृति, समाज कल्याण, पिछड़ा वर्ग कल्याण, अल्पसंख्यक कल्याण, सिंचाई एवं जल संसाधन आदि विभागों के कार्यालय की स्वच्छता एवं इन विभागों द्वारा संचालित संस्थाओं में भी साफ-सफाई तथा स्वच्छता के परिसम्पत्तियों की मरम्मत, पेंटिंग, साफ-सफाई का कार्य किया जायेगा, जिसकी प्रगति आख्या फोटोग्राफ सहित सम्बंधित जनपद के जिलाधिकारी के माध्यम से जिला पंचायत राज अधिकारी को उपलब्ध कराया जायेगा। यह रिपोर्ट एस0एच0एस0-2023 पोर्टल पर अपलोड की जायेगी। इस अवसर पर कृषि उत्पादन आयुक्त ने सभागार में उपस्थित लोगों को स्वच्छ भारत बनाये जाने हेतु शपथ भी दिलाई।इस अवसर पर श्री राजकुमार, मिशन निदेशक स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) ने बताया कि ‘‘स्वच्छता ही सेवा’’ के अन्तर्गत ग्रामों में विभिन्न गतिविधियां संचालित की जायेगी जिसमें-सभी महत्वपूर्ण स्थानों पर विशेष सफाई अभियान चलाकर कचरा हटाया जाना, ग्रामों में कूड़ेदान, सामुदायिक शौचालय, अपशिष्ट परिवहन वाहन, आर0आर0सी0 आदि सभी स्वच्छता परिसम्पत्तियों की मरम्मत, पेंटिंग, साफ-सफाई एवं ब्रांडिंग किया जाना, नदी तटों विशेषकर गंगा नदी के किनारे स्थित ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों में साफ-सफाई कराने और कचरे प्लास्टिक आदि को हटाने हेतु अभियान में सहायता प्रदान करना, अभियान के दौरान श्रमदान का प्रभावी अभिलेखीकरण किया जायेगा। इस कार्यक्रम से ग्रामीणवासी भी प्रेरित होंगे एवं भावी पीढ़ी भी इसका अनुसरण करेगी।विशेष सचिव पंचायती राज श्रीमती बी चन्द्रकला ने कहा कि एक अभियान के रूप में स्वच्छता ही सेवा के भाव से काम करना है जिससे गांव एवं शहर में स्वच्छता की अलख जगा कर स्वच्छता को रोज की दिनचार्या में शामिल करना है, जिससे भारत कचरा मुक्त हो सके। इस संकल्प को सिद्धि तक लेकर जाये तथा नये भारत के निर्माण में भागीदार बने।इस अवसर पर स्वच्छ सर्वेक्षण (ग्रामीण) 2023 के अन्तर्गत राज्य में उत्कृष्ट काम करने वाले 60 ग्राम पंचायतों के ग्राम प्रधान, सचिव ग्राम पंचायत, पंचायत सहायक एवं सफाईकर्मी को प्रशस्ति पत्र एवं प्रतीक चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया। जिसमें मुख्य रूप से जनपद अलीगढ़ के जिरौली हीरा सिंह, जनपद बुलन्दशहर के शहजादपुर कनैली, श्रावस्ती के सरवनतारा एवं जनपद वाराणसी के बसनी को कृषि उत्पादन आयुक्त द्वारा अपने कर कमलों से सम्मानित किया। शेष ग्राम पंचायतों को विशेष सचिव पंचायत राज एवं मिशन निदेशक द्वारा सम्मानित किया गया। स्वच्छता के क्षेत्र में विशेष योगदान देेने वाले प्रदेश के सभी जनपदों से सफाईकर्मियों को भी सम्मानित किया गया।इस अवसर पर एस0एन0 सिंह, नोडल अधिकारी, स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण), उ0प्र0 द्वारा कृषि उत्पादन आयुक्त/अपर मुख्य सचिव, पंचायतीराज उ0प्र0 शासन एवं अन्य विभागों से उपस्थित अधिकारियों व अतिथियों का आभार व्यवक्त करते हुए स्वच्छता ही सेवा 2023 को सफल बनाने हेतु पूर्ण मनोयोग से गतिविधियों को संचालित कराने का अनुरोध किया गया। उक्त अवसर पर अखिलेश गौतम, अधिशासी निदेशक, आई0डी0सी0, यूनिसेफ व वाट ऐड के प्रतिनिधियों द्वारा भी अपने विचार रखते हुए स्वच्छता ही व्यापकता, स्थिरता व प्रयोग की महत्ता पर प्रकाश डाला गया।उल्लेखनीय है कि स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) द्वितीय चरण के अन्तर्गत गांधी जयन्ती 02 अक्टूबर, 2023 के अवसर पर स्वच्छता के लिए जन आंदोलन के उत्सव के दृष्टिगत ‘स्वच्छ भारत दिवस (एसबीडी)’’के रूप में मनाया जाना है, जो राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी को उनकी जयंती के दिन एक श्रद्धांजलि है। स्वच्छ भारत दिवस की प्रस्तावना के रूप में, स्वच्छता ही सेवा पखवाड़ा स्वच्छ भारत मिशन-ग्रामीण और शहरी द्वारा संयुक्त रूप से दिनांक 15 सितम्बर, 2023 से 02 अक्टूबर, 2023 तक कचरा मुक्त भारत बनाने के उद्देश्य से पखवाड़ा मनाया जा रहा है।कार्यक्रम में प्रदेश के समस्त मण्डलीय उपनिदेशक, पं0 जिला पंचायत राज अधिकारी, मण्डलीय एवं जिला कन्सलटेन्ट, स्वच्छ सर्वेक्षण ग्रामीण-2023 में राज्य स्तर से चयनित 60 मॉडल ग्राम पंचायतों के ग्राम प्रधान, सचिव ग्राम पंचायत, पंचायत सहायक, सफाईकर्मी एवं स्वच्छता के क्षेत्र में अच्छा कार्य कराने वाले सफाईकर्मियों द्वारा प्रतिभाग किया गया।इस कार्यक्रम में श्री योगेन्द्र कटियार उप निदेशक (पं0), प्रवीणा चौधरी संयुक्त निदेशक (प्रिट), अमितोष श्रीवास्तव, मुख्य वित्त एवं लेखाधिकारी, समस्त स्टेट कन्सल्टेन्ट, समस्त प्रशासनिक अधिकारीगण व पंचायती राज निदेशालय के अधिकारी व कर्मचारीगण उपस्थित रहे।

RELATED ARTICLES

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

Most Popular

Recent Comments